छत्तीसगढ़ के साहित्य एवं साहित्यकार | chhattisgarh ke sahitya avam sahityakar | chhattisgarh me sahitya ka vikas | छत्तीसगढ़ में साहित्य का विकास

 छत्तीसगढ़ में साहित्य का विकास 


छत्तीसगढ़ में साहित्य का विकास को तीन भागों में विभक्त किया गया है -

प्राचीन काल 

मध्यकाल 

आधुनिक काल 

प्राचीन काल - इस समय छत्तीसगढ़ के साहित्य में प्रेम, वीरता और धार्मिक गाथा पर आधारित रचना होती थी। इस समय के प्रमुख कवि दलपतराव थे

मध्यकाल

मध्य काल की प्रमुख रचनाएं वीरगाथा पर आधारित है जैसे फूलकुँवरदेवी की गाथा ,कल्याणसाय की गाथा। उस समय लघु कथाएं की भी रचना हुई गोपल्ला गीत, ढोला मारू गीत ।

इस समय के प्रमुख रचनाकार थे

गोपाल प्रसाद मिश्र

इनकी रचना है रतनपुर महात्म्य , खूब तमाशा , सुदामा चरित्र , भक्ति चिंतामणि , रामायण प्रताप , जैमिनी अश्वमेध ।

माखनलाल मिश्र रामायण प्रताप रचना को पूर्ण किया। माखनलाल मिश्र जी गोपाल प्रसाद मिश्र के पुत्र थे ।

बाबू रेवाराम - छत्तीसगढ़ छत्तीसगढ़ का प्रथम इतिहासकार कहा जाता है ।

इनकी रचना गीतामाधव, गंगा लहरी सार रामायण, विक्रम विलास ,रत्नपरीक्षा, कृष्णमाला , रामाश्वमेघ , तारिक ए हैहय वंशी

आधुनिक काल - इस काल मे बहुत से रचना हुई है जिसको अगले पोस्ट में देखेंगे।
Current Affairs

छत्तीसगढ़ साहित्य में प्रथम


छत्तीसगढ़ के पाणिनि हीरालाल काव्योपाध्याय जी को कहा जाता है , छत्तीसगढ़ के प्रथम व्याकरण लेखक हैं। यह छत्तीसगढ़ के पाणिनि के नाम से विख्यात हैं ।

इन्होंने सर्वप्रथम 1890 में छत्तीसगढ़ व्याकरण का निर्माण किया और 1890 में ही इसे डॉक्टर ग्रियर्सन ने प्रकाशित किया ।

छायावाद के प्रवर्तक  - मुकुटधर पांडे

रचना- कुर्री के प्रति

इन्हें छायावाद का जनक भी कहा जाता है। इन्होंने महाकवि कालिदास द्वारा रचित मेघदूतम का छत्तीसगढ़ी भाषा में अनुवाद किया और साथ ही 1976 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

इन्हें छग के प्रथम पुरातत्ववेत्ता भी माने जाते है।

छत्तीसगढ़ के प्रथम निबंधकार - केयूरभूषण ।

रचना - राणी ब्राह्मण की दुर्दशा ।
छत्तीसगढ़ राजयसभा चुनाव 2020
इनके द्वारा रचित उपन्यास - फूटहाकरम,  कहां बिलागे  धान के कटोरा , कुल के मरजाद ।

इन्हें प्रथम रविशंकर शुक्ल पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

छत्तीसगढ़ के प्रथम उपन्यासकार - शिव शंकर शुक्ल। रचना - दियना के अंजोर ।

छत्तीसगढ़ के प्रथम खंडकाव्यकार - सुंदरलाल शर्मा। रचना - दानलीला (श्रीकृष्ण की लीलाओं आधारित)

छत्तीसगढ़ के प्रथम छंदशास्त्री - जगन्नाथ प्रसाद ' भानु' ( भानु इनकी उपाधि है )

रचना - पंचामृत रामायण , काव्य प्रभाकर।

छत्तीसगढ़ के प्रथम महाकाव्यकार - प्रणयन जी

रचना - श्री रामकथा , श्री कृष्ण कथा , श्री महाभारत कथा )

छत्तीसगढ़ के प्रथम कवियित्री - निरुपमा शर्मा

छग भाषा की प्रथम महिला साहित्यकार।

रचना - बूंदों का सागर , बाल गीत ।

पतरेंगी , दाई खेलन दे , ऋतु वरनन ।

छत्तीसगढ़ भाषा के प्रथम कवि - धनिधरम दास।

छत्तीसगढ़ में राजयसभा चुनाव २० २० (वीडियो)

Comments

Popular posts

CG GK छत्तीसगढ़ के जनजातियों का कार्य ,पेय पदार्थ ,मृतक संस्कार

जनजाति विवाह

छत्तीसगढ़ की भौगोलिक सीमा

हिंदी [वर्ण रचना ] HINDI व्यंजन CONSONANTS

जलप्रपात (WATER FALL)

छत्तीसगढ का भौगोलिक विवरण |GEOGRAPHICAL STUDY OF CHHATTISGARH 1

भारत का जैव भौगोलिक वर्गीकरण ( geographical classification of biodiversity) | जैव विविधता के तप्त स्थल /Hotspot of Biodiversity | वैश्विक जैव विविधता|जैव विविधता को क्षति / जैव विविधता का क्षरण आवासीय क्षति/ विखंडन

CG GK YUVAGRIH जनजातियों का युवागृह -घोटुल ,धुम्कुरिया ,धाँगाबक्सर,रंगबंग,घसरवासा,गीतिओना

छत्तीसगढ़ राज्य में प्रथम । first in chhattisgarh state.

loading...