हिंदी [वर्ण रचना ] HINDI व्यंजन CONSONANTS

हिंदी [वर्ण रचना ] HINDI व्यंजन CONSONANTS

वर्ण (अक्षर )-

  • ध्वनि की सबसे छोटी इकाई को वर्ण कहते है अथवा वर्णों के समूह को वर्णमाला कहते है .
  • वर्णमाला में वर्णों की संख्या 52 होती है .
  • वर्णमाला में स्वर [11] , व्यंजन [39] , अयोगवाह [2] होते है .

व्यंजन वर्ण -

  • जिन वर्णों का स्वतंत्र अस्तित्व नही होता है जो हमेशा स्वर वर्णों की सहायता से ही बोले जाते है ,उसे व्यंजन कहते है .
  • व्यंजन वर्णों की  कुल संख्या 39 है .

हिंदी [वर्ण रचना ] HINDI स्वर VOVEL


स्पर्श व्यंजन -

  • जिन व्यंजन वर्णों के उच्चारण में कंठ,तालू,मूर्धा,दन्त एवं ओष्ठ का प्रयोग होता है उसे स्पर्श व्यंजन कहते है .
  • स्पर्श व्यंजनों की संख्या 25 है -
  • क वर्ग - क ख ग घ ङ.
  • च वर्ग - च छ ज झ ‌ञ
  • ट वर्ग - ट ठ ड ढ  ण
  • त वर्ग - त थ द ध न
  • प वर्ग - प फ ब भ म

अंत:स्थ -

  • जिन व्यंजनों के उच्चारण में श्वास अन्दर की तरफ खिची जाए .
  • अंत:स्थ व्यंजनों की संख्या 4 है .
  • [ य र ल व ]

ऊष्म व्यंजन -

  • जिन वर्णों के उच्चारण में मुह से गरम हवा निकले.
  • ऊष्म व्यंजनों की संख्या 4 है .
  • [ श ष स ह ]

संयुक्त व्यंजन -

  • जो व्यंजन वर्ण दो व्यंजनों से मिलकर बना होता है ,संयुक्त व्यंजन कहते है .
  • संयुक्त व्यंजन की संख्या 4 है .
  • [ क्ष त्र ज्ञ श्र ].
  • क्ष = क् + ष.
  • त्र = त् + र .
  • ज्ञ = ज् +ञ.
  • श्र =श् + र.

द्विगुण व्यंजन -

  • जिन व्यंजन वर्णों में दो व्यंजन के गुण पाए जाते है .
  • [ ड़ ढ़ ]
  • इन्हें उत्क्षिप्त / आगत /निर्मित व्यंजन भी कहते है .

नोट

  • हिंदी में फारसी भाषा के 5 वर्ण है - क़ , ख़  , ग़ , ज़ ,फ़ .
  • हिंदी में तुर्की भाषा के दो शब्द है - ड़ ,ढ़ .
CG PSC CMO The Water (Prevention and Control of Pollution) Act, 1974 जल (प्रदुषण निवारण एवं नियंत्रण) अधिनियम ,1974

वायु संवेग के आधार पर -

वायु संवेग के आधार पर व्यंजन के 2 भेद होते है -

  1. अल्पप्राण
  2. महाप्राण

अल्पप्राण

  • जिन वर्णों के उच्चारण में वायु धीरे से ली अथवा छोड़ी जाए ,उसे अल्पप्राण ध्वनियाँ कहते है .
  • प्रत्येक वर्ग का 1 , 3 ,5 वर्ण अल्पप्राण होता है .
  • क ग ङ .
  • च ज ञ .
  • ट ड ण.
  • त द न.
  • प ब म.
  • नोट - प्रत्येक अंत:स्थ व्यंजन अल्पप्राण होते है .[ य र ल व ]

महाप्राण -

  • जिन वर्णों के उच्चारण में वायु जोर से ली अथवा छोड़ी जाती है उसे महाप्राण ध्वनियाँ कहते है .
  • प्रत्येक वर्ग का दूसरा और चौथा वर्ण महाप्राण होता है .
  • ख घ
  • छ झ
  • ठ ढ
  • थ ध
  • फ भ
  • नोट - प्रत्येक ऊष्म व्यंजन महाप्राण होता है .[ श ष  स ह ]

तारत्व के आधार पर -

तारत्व के आधार पर वर्ण के दो भेद होते है -

  1. घोष वर्ण
  2. अघोष वर्ण

घोष वर्ण -

  • जिन वर्णों के उच्चारण में प्रकम्पन्न पैदा होता है ,उसे घोष वर्ण कहते है .
  • प्रत्येक वर्ग का तीसरा, चौथा, पांचवां वर्ण घोष वर्ण होता है .
  • ग घ ङ
  • ज झ ञ
  • ड ढ ण
  • द ध न
  • ब भ म
  • नोट - प्रत्येक अन्तस्थ और ह घोष वर्ण है .[ य र ल व ह } प्रत्येक स्वर वर्ण घोष वर्ण होता है .

अघोष वर्ण -

  • प्रत्येक वर्ग का पहला और दूसरा वर्ण अघोष वर्ण है .
  • क ख
  • च छ
  • ट ठ
  • त थ
  • प फ
  • नोट - प्रत्येक ऊष्म व्यंजन [ ह को छोड़कर ] अर्थात श ष स अघोष वर्ण है .

उच्चारण के स्थान पर -

    हिंदी [वर्ण रचना ]
  • कंठ - क ख ग घ ङ अ ह अ:
  • तालू - च छ ज झ ञ इ य ज्ञ श
  • मूर्धा - ट ठ ड ण ऋ र ष
  • दन्त - त थ द ध न  ळृ ल स
  • ओष्ठ - प फ ब भ म उ
  • दन्तोष्ठ - व
  • कान्ठोष्ठ - ओ औ
  • कंठ तालव्य - ए ऐ
  • कंठ-मूर्धा - क्ष
  • दन्त -मूर्धा - त्र
  • तालू-मूर्धा - श्र'
  • नासिक्य - ङ ञ ण न म

महत्वपूर्ण बिंदु

  • हिंदी में काकल्य वर्ण ( स्वर यंत्र मुखी ) केवल एक है - ह .
    हिंदी में वत्स्य वर्ण 4 है - र ल ज स
    वत्स्य का अर्थ होता है दंत के निचले हिस्से से बोले जाने वाले.
    हिंदी में स्पर्श संघर्षी वर्ण 4 है - च छ ज झ .
    हिंदी में संघर्षी वर्ण 3 है - श ष स.
    हिंदी में विवृत्त वर्ण केवल एक है - आ.
    अर्ध विवृत्त वर्ण तीन है - ऐ औ ऑ
    समृत्त वर्ण चार है - इ ई उ  ऊ .
    अर्ध अमृत वर्ण दो है - ए ओ.  
https://www.cgsamanyagyan.com/2019/03/cg-psc-cmo-water-prevention-and-control27.html इसे भी पढ़ें

Comments

Popular Posts

जनजाति विवाह

छत्तीसगढ़ राज्य में प्रथम । first in chhattisgarh state.

छत्तीसगढ़ के राजकीय प्रतीक चिन्ह | STATE SYMBOL OF CHHATTISGARH

लोकगीत 1

छत्तीसगढ़ के मेले

छत्तीसगढ़ के लोकनृत्य

लोकनाट्य

जलप्रपात (WATER FALL)

छत्तीसगढ का भौगोलिक विवरण |GEOGRAPHICAL STUDY OF CHHATTISGARH 1

loading...