छत्तीसगढ़ का इतिहास/रामायण काल

*रामायण काल में छत्तीसगढ़ का नाम दक्षिण कोसल था और इसकी राजधानी कुशस्थली थी ।
*इस काल में बस्तर का नाम दंडकारण्य था ।
*दक्षिण कोसल के राजा भानुमंत थे जिनकी पुत्री कौशल्या का विवाह उत्तर कोसल के राजा दशरथ से हुआ किंतु भानुमंत के पुत्र नहीं होने के कारण यह राज्य राजा दशरथ को मिल गया।
* इस समय दक्षिण कोसल की भाषा कोसली थी।
* छत्तीसगढ़ की प्राचीन भाषा कोसली है।

*रामायण कालीन कुछ प्रमुख स्थान -
*सरगुजा-
1. रामगढ़ की पहाड़ी
2. सीता बेंगरा की गुफा
3. लक्ष्मण बेंगरा की गुफा
4. हाथीखोर गुफा
5.  किस्किंधा पर्वत

* रायगढ़ -
1.राम झरना

*जांजगीर चांपा -
1.खरौद -खर दूषण का वध
2.शिवरीनारायण -मान्यता है कि भगवान राम ने शबरी के जूठे बेर खाए थे और यहां सबरी आश्रम भी स्थित है

*कांकेर -
1.पंचवटी- यहां से सीता माता का अपहरण का उल्लेख मिलता है .

*महासमुंद -
1.वाल्मिकी आश्रम -लव कुश की जन्म स्थली इसे तुरतुरिया आश्रम के नाम से भी जाना जाता है .

*बस्तर क्षेत्र- इसे दंडकारण्य के नाम से जाना जाता था।
* भगवान राम ने यहां अपने वनवास के दौरान कुछ समय व्यतीत किए थे।
*  दक्षिण कोसल श्री राम का ननिहाल था ।
*  भगवान राम ने अपने अंतिम समय में दक्षिण कोशल कुश( राजधानी कुसस्थली) जबकि उत्तर कोशल को लव (राजधानी श्रावस्ती) राज कार्य दिए।


इस पोस्ट में कोई भी त्रुटि हो तो टिप्पणी करके जरूर बताइएगा।
धन्यवाद!

Comments

Post a comment

Popular posts

जनजाति विवाह

केशवानंद भारती कौन थे ? केशवानंद भारती बनाम केरल राज्य | Keshvanand Bharti vs Kerala state

छत्तीसगढ़ की भौगोलिक सीमा

छत्तीसगढ़ का इतिहास/प्रागैतिहासिक काल

CG GK YUVAGRIH जनजातियों का युवागृह -घोटुल ,धुम्कुरिया ,धाँगाबक्सर,रंगबंग,घसरवासा,गीतिओना

छत्तीसगढ़ राज्य में प्रथम । first in chhattisgarh state.

छत्तीसगढ़ के साहित्य एवं साहित्यकार | chhattisgarh ke sahitya avam sahityakar | chhattisgarh me sahitya ka vikas | छत्तीसगढ़ में साहित्य का विकास

भारत का जैव भौगोलिक वर्गीकरण ( geographical classification of biodiversity) | जैव विविधता के तप्त स्थल /Hotspot of Biodiversity | वैश्विक जैव विविधता|जैव विविधता को क्षति / जैव विविधता का क्षरण आवासीय क्षति/ विखंडन

हिंदी [वर्ण रचना ] HINDI व्यंजन CONSONANTS

loading...