छतीसगढ़ के जनजाति नृत्य

जनजाति नृत्य

मांदरी नृत्य 

  • यह नृत्य मुड़िया जनजाति द्वारा घोटुल के बाहर किया जाता है .

ककसार नृत्य 

  • यह नृत्य नुदिया जनजाति द्वारा घोटुल के देवता लिंगापेंन को खुश करने के लिए किया जाता है .

एबालतोर

  • यह नृत्य मुडिया जनजाति द्वारा मडई महोत्सव के समय अन्गादेव की पूजा हेतु किया जाता है .

हुलकीपाटा

  • यह मुडिया जनजाति द्वारा किया जाता है ,यह एक सामान्य नृत्य है .

घोटुलपाटा

  • यह नृत्य मुडिया जनजाति द्वारा मृत्यु के अवसर पर किया जाता है .

माओपाटा 

  • यह नृत्य मुडिया जनजाति के लोग शिकार के समय करते है .

बायसन हार्न 

  • यह नृत्य माड़िया जनजाति के लोगों द्वारा गोंचा पर्व में भैंस के सिंग लगाकर नृत्य किया जाता है.मृतक स्तम्भ स्थापित करते है .

पैडूल नृत्य 

  • यह दोरला जनजाति के लोगों द्वारा विवाह के अवसर पर किया जाता है.

करमा नृत्य 

  • यह नृत्य बैगा जनजाति द्वारा सामान्य अवसर पर किया जाता है .

दमनच नृत्य 

  • यह नृत्य कोरवा जनजाति द्वरा किया जाता है.यह सबसे भयानक या खतरनाक नृत्य होता है .विवाह के अवसर पर किया जाता है .

डंडारी नृत्य 

  • यह कोरकू जनजाति द्वारा किया जाता है .यह होली के अवसर पर किया जाता है.

सैला /डंडा नृत्य

  • यह बैगा /गोंड जनजाति द्वारा दीपावली के समय से फाल्गुन पूर्णिमा तक चलता है.

सरहुल नृत्य 

  • यह उराव जनजाति के लोगों द्वारा साल वृक्ष में फल लगने पर किया जाता है .

भड़म नृत्य 

  • यह नृत्य भारिया जनजाति के लोगों द्वारा किया जाता है.यह सबसे लम्बी समय तक चलने वाला नृत्य है.

Comments

Popular posts

जनजाति विवाह

केशवानंद भारती कौन थे ? केशवानंद भारती बनाम केरल राज्य | Keshvanand Bharti vs Kerala state

छत्तीसगढ़ की भौगोलिक सीमा

छत्तीसगढ़ का इतिहास/प्रागैतिहासिक काल

CG GK YUVAGRIH जनजातियों का युवागृह -घोटुल ,धुम्कुरिया ,धाँगाबक्सर,रंगबंग,घसरवासा,गीतिओना

छत्तीसगढ़ राज्य में प्रथम । first in chhattisgarh state.

छत्तीसगढ़ का इतिहास/रामायण काल

भारत का जैव भौगोलिक वर्गीकरण ( geographical classification of biodiversity) | जैव विविधता के तप्त स्थल /Hotspot of Biodiversity | वैश्विक जैव विविधता|जैव विविधता को क्षति / जैव विविधता का क्षरण आवासीय क्षति/ विखंडन

छत्तीसगढ़ के साहित्य एवं साहित्यकार | chhattisgarh ke sahitya avam sahityakar | chhattisgarh me sahitya ka vikas | छत्तीसगढ़ में साहित्य का विकास

loading...